तुला लग्न की कुण्डली में किस ग्रह के लिये कौन सा रत्न धारण करें ।।

तुला लग्न की कुण्डली में किस ग्रह के लिये कौन सा रत्न धारण करें ।। Tula Lagn Kundali Me Ratna

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, आज हम बात करेंगे रत्न धारण के विषय में । तुला लग्न की कुंडली में कौन सा रत्न धारण करना श्रेष्ठ रहेगा । कौन से ग्रह का रत्न धारण करने पर शुभ फलदायी रहेगा । इस विषय में हम आज विस्तृत चर्चा करेंगे । आप देख सकते हैं, इंटरनेट पर आज के समय में ग्रहों के रत्नों को लेकर कई तरह की चर्चाएं चलती रहती है । जिनके कारण कई बार कई लोगों को उम्मीद से अधिक नुकसान का सामना भी करना पड़ जाता है ।।  Tula Lagn Kundali Me Ratna

मित्रों, सबसे बड़ा प्रश्न यह है, कि किन ग्रहों के रत्न धारण करें । बलवान ग्रहों के रत्न धारण करें या फिर निर्बल ग्रहों के रत्न धारण करें ? यह प्रश्न तो बहुत बड़ा है । क्योंकि कई बार ग्रहों के रत्न काफी नुकसान कर जाते हैं । इस बात को समझने के लिये आज हम उदाहरण के तौर पर मान लीजिए आपकी कुंडली अगर तुला लग्न की है तो उस लग्न कुंडली में लग्नेश शुक्र होता है ।।

 

Tula Lagn Kundali Me Ratna

इस तुला लग्न की कुंडली में केंद्र और त्रिकोण का मालिक होने के कारण शनि सर्वाधिक कारक ग्रहों की श्रेणी में आता है । इस लग्न कुंडली में नवमेश होने के वजह से बुध भी काफी अच्छा ग्रह होता है । परंतु इस लग्न कुंडली में शुक्र, शनि और बुध यह तीन ग्रह ऐसे होते हैं जो कारक ग्रह माने गए हैं । अब इन तीन ग्रहों के लिए अगर इनका प्लेसमेंट सही हो बलाबल का काफी अच्छे से विचार करने के उपरांत अच्छा हो तो हम इनका रत्न धारण कर सकते हैं ।।

मित्रों, हम कृष्णमूर्ति पद्धति को भी अगर प्रमाण माने तो वहां भी यह सिद्धांत स्पष्ट रूप से है, कि शुक्र, शनि और बुध तुला लग्न की कुंडली में इन ग्रहों के लिए कुछ उपाय करके इन ग्रहों को और भी अच्छा किया जा सकता है । जैसे ग्रहों के रत्न धारण किए जा सकते हैं । परंतु इस लग्न कुंडली में अगर गुरु, सूर्य और मंगल खराब ग्रह होकर अच्छी स्थिति में हो तो इनके लिए मंत्र जप करके इन्हें अपने अनुकूल कर सकते हैं ।।

लेकिन ये ग्रह अगर बुरी स्थिति में अगर हो तो उनके लिए किसी तरह के इलाज की आवश्यकता नहीं है । क्योंकि अगर खराब ग्रह, खराब स्थिति में हो तो खराब फल नहीं देता है । ऐसी स्थिति में ग्रहों के प्लेसमेंट और उनके बलाबल का अच्छी तरह से आकलन कर लेना चाहिए । जैसे मान लीजिए आपकी कुंडली तुला लग्न की है तो इस लग्न कुंडली में सूर्य लाभ भाव का स्वामी होकर लाभेश होता है ।।

इनकम भाव का मालिक होकर सूर्य यदि लग्न में बैठा हो और ऐसे सूर्य का रत्न माणिक्य धारण कर लिया तो यह सूर्य निश्चित रूप से आपको फायदा के जगह पर नुकसान ही करेगा । ऐसे में आपकी स्थिति जो है वो और भी बद्तर होती चली जाएगी ।। Tula Lagn Kundali Me Ratna

इसलिए ऐसी स्थिति में ग्रहों का रत्न बहुत ही सोच समझ कर धारण करना चाहिए । कोई भी रत्न धारण करने से पहले सर्वप्रथम आप अपनी कुंडली किसी जानकार विद्वान ज्योतिषी से दिखाएं । उसके बाद उनके सलाह के अनुसार ही आप कोई भी रत्न धारण करें । अन्यथा रत्न कभी-कभी घातक भी सिद्ध हो जाते हैं ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Avatar

Balaji Jyotish Kendra, India

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!