काली चौदस: आज की रात करें ये टोटके और पायें तुरंत परिणाम (धन, रोग मुक्ति एवं सिद्धियाँ)।।

काली चौदस: आज की रात करें ये टोटके और पायें तुरंत परिणाम (धन, रोग मुक्ति एवं सिद्धियाँ)।। Kaali Chaudas Ke Achuk totke.

हैल्लो फ्रेण्ड्सzzz,

मित्रों, कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को काली चौदस का पर्व मनाया जाता है। दिवाली के पंच दिवस उत्सव का यह दूसरा दिन होता है। काली चौदस का पर्व भगवान विष्णु के नरकासुर पर विजय पाने के उपलक्ष में मनाया जाता है तथा इस पर्व का देवी काली के पूजन से गहरा संबंध है । तंत्रशास्त्र के अनुसार महाविद्याओं में देवी कालिका सर्वोपरि है ।।

काली शब्द हिन्दी के शब्द काल से उत्पन्न हुआ है जिसका अर्थ हैं समय, काल अर्थात मृत्यु के देवता या मृत्यु अथवा काला रंग होने के वजह से भी काली कहा जाता रहा होगा । तंत्र के साधक महाकाली की साधना को सर्वाधिक प्रभावशाली मानते हैं और यह हर कार्य का तुरंत परिणाम देती है । साधना को सही तरीके से करने से साधकों को अष्टसिद्धि की प्राप्त होती है ।।

काली चौदस के दिन कालिका के विशेष पूजन-उपाय से लंबे समय से चल रही बीमारी भी दूर हो जाती है । काले जादू के बुरे प्रभाव, बुरी आत्माओं से सुरक्षा मिलती है । कर्ज़ मुक्ति मिलती हैं । बिजनैस की परेशानियां दूर होती हैं । दांपत्य जीवन से तनाव दूर हो जाता हैं । यही नहीं काली चौदस के दिन कुछ विशेष टोटकों से शनि के प्रकोप से भी मुक्ति पाया जा सकता है ।।

यदि आपके व्यवसाय में निरन्तर गिरावट आ रही है, तो आज रात्रि में पीले कपड़े में काली हल्दी, 11 अभिमंत्रित गोमती चक्र, चांदी का सिक्का एवं 11 अभिमंत्रित धनदायक कौड़ियां बांधकर 108 बार “ॐ ह्री श्रीं ह्रीं लक्ष्मीनारायणाभ्याम् नमः” का जप कर धन रखने के स्थान पर अथवा तिजोरी में रखने से व्यवसाय में प्रगति होती है अथवा तेजी आ जाती है ।।

यदि कोई व्यक्ति मिर्गी या पागलपन से पीड़ित हो तो आज रात में काली हल्दी को कटोरी में रखकर लोबान की धूप दिखाकर शुद्ध करें । तत्पश्चात एक टुकड़ें में छेद कर काले धागे में पिरोकर उसके गले में पहना दें । साथ ही नियमित रूप से कटोरी की थोड़ी सी हल्दी का चूर्ण ताजे पानी से सेवन कराते रहें । देखें कुछ ही दिनों में अकल्पनीय लाभ होगा ।।

अगर आप अपने जीवन में धन सम्बन्धी परेशानियों से निरन्तर जूझ रहे हैं, तो आज रात्रि काली मिर्च के पांच दाने सिर पर से 7 बार वारकर किसी सुनसान चौराहे पर जाकर चारों दिशाओं में एक-एक दाना फेंक दे । पांचवे बचे काली मिर्च के दाने को आसमान की तरफ फेंक दें और बिना पीछे देखे या किसी से बात किये सीधे घर वापिस आ जायें, देखें जल्दी ही पैसा मिलेगा ।।

अगर आप अपने जीवन में निरन्तर अस्वस्थ्य रहते हैं तो आज आटे के दो पेड़े बनाकर उसमें गीली चने की दाल के साथ गुड़ और पिसी काली हल्दी को दबाकर खुद पर से 7 बार उतार कर गाय को खिला दें । आज रात के सामी काली मिर्च के 7-8 दाने लेकर उसे घर के किसी कोने में दिए में रखकर जला दें । घर की समस्त नकारात्मक ऊर्जा समाप्त हो जाएगी ।।

अगर आपके बच्चे को नजर लग गयी हो तो काले कपड़े में हल्दी को बांधकर 7 बार ऊपर से उतार कर बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें । जीवन में दुबारा उसे कभी किसी की बुरी नजर नहीं लगेगी ।।

ज्योतिष के सभी पहलू पर विस्तृत समझाकर बताया गया बहुत सा हमारा विडियो हमारे  YouTube के चैनल पर देखें । इस लिंक पर क्लिक करके हमारे सभी विडियोज को देख सकते हैं – Click Here & Watch My YouTube Channel.

इस तरह की अन्य बहुत सारी जानकारियों, ज्योतिष के बहुत से लेख, टिप्स & ट्रिक्स पढने के लिये हमारे ब्लॉग एवं वेबसाइट पर जायें तथा हमारे फेसबुक पेज को अवश्य लाइक करें, प्लीज – My facebook Page.

वास्तु विजिटिंग के लिये तथा अपनी कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें ।।

किसी भी तरह के पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं ।।

संपर्क करें:- बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा ।।

WhatsAap & Call: +91 – 8690 522 111.
E-Mail :: astroclassess@gmail.com

Avatar

Balaji Jyotish Kendra, India

कुण्डली दिखाकर उचित सलाह लेने एवं अपनी कुण्डली बनवाने तथा वास्तु विजिटिंग के लिये अथवा किसी विशिष्ट मनोकामना की पूर्ति के लिए संपर्क करें । पूजा-पाठ, विधी-विधान, ग्रह दोष शान्ति आदि के लिए तथा बड़े से बड़े अनुष्ठान हेतु योग्य एवं विद्वान् ब्राह्मण हमारे यहाँ उपलब्ध हैं । ज्योतिष पढ़ने के लिये संपर्क करें - बालाजी ज्योतिष केन्द्र, गायत्री मंदिर के बाजु में, मेन रोड़, मन्दिर फलिया, आमली, सिलवासा।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!